वो लड़की थी, वो बावली थीवो हस्ती थी, वो खेलती थी।था शौक उसे हर पल सजने संवरने का,सज धज कर थोड़ा घूमने फिरने का।खिल जाती वो जब,… Read more